INDIAN AIR FORCE – most prestigious service

आज देश में वायुसेना का 87वां स्थापना दिवस मनाया जा रहा है | दुनिया के चौथी ( 4th) सबसे बड़ी वायुसेना INDIAN AIR FORCE का मुख्यालय नई दिल्ली में है और इसके कमांडर इन चीफ़ भारत के महामहिम राष्ट्रपति होते हैं |

भारतीय सेना का अभिन्न अंग, भारत का अभिमान और युवाओं में भविष्य निर्माण के ( CARRIER MAKING ) लिए सबसे स्वर्णिम विकल्पों में से एक गौरवशाली इंडियन एयर फ़ोर्स के बारे में ये बातें जानना सामान्य ज्ञान की दृष्टि से रोचक भी है और एक देशप्रेमी के लिए ज़रूरी भी |

गौरवशाली इतिहास ( HISTORY OF IAF )

शायद ही कोई भारतीय होगा जिसे भारतीय सेना के पराक्रम पर गर्व न हो | सेना के शौर्य का इतिहास भी हर हिन्दुस्तानी के दिल-ओ-दिमाग़ में हमेशा है पर अब हम जाने वाले हैं साल 1932 में, स्थापना के समय इसे ROYAL INDIAN AIR FORCE कहा गया और 1950 में भारत के पूर्ण गणतंत्र बनने तक इसका यही नाम रहा |

विभाजन के बाद दस में से तीन स्क्वाड्रन भी पाकिस्तान के हिस्से चले गये | 1950 से अस्तित्व में आई INDIAN AIR FORCE ने अपना प्रतीक चिन्ह और आदर्श वाक्य ( नभ : स्पृशं दीप्तम् ) अपनाया जो आज भी पूरी गरिमा के साथ हमारी वायुसेना की पहचान है |

दिसम्बर 1961 में GOA से पुर्तगालियों को खदेड़ने के लिए भारतीय वायुसेना ने ‘ऑपरेशन विजय’ के तहत डाबोलिम एअरपोर्ट पर बमबारी की ( मै हाल ही में गोवा गया था, डाबोलिम एअरपोर्ट पर INDIAN AIR FORCE के विमान देखकर आप गर्व से भर जाते हैं, गोवा के टैक्सी ड्राइवर्स आपको एअरपोर्ट ले जाते वक़्त गोवा की आज़ादी की कहानी ज़रूर सुनायेंगे ) और पुर्तगालियों को भागने पर मजबूर होना पड़ा |

1962 में चीन से और 1965, 1971, 1999 में पाकिस्तान से युद्ध में हर-हर कदम पर INDIAN AIR FORCE ने थलसेना का समर्थन और सहयोग किया और दुश्मन पर स्वतंत्र हमले भी किये | अपने अदम्य साहस और कौशल से सियाचिन जैसी विश्व की सबसे कठिन भौगोलिक परिस्थितियों में भी हमारी सेना अपने काम को बखूबी अंजाम देती है |

IAF RANKS | रैंक |

एयर चीफ मार्शल Air Chief Marshal

एयर मार्शल Air Marshal

एयर वाइस मार्शल Air Vice Marshal

एयर कमोडोर Air Commodore

ग्रुप कैप्टेन Group Captain

विंग कमांडर Wing Commander

स्क्वाड्रन लीडर Squadron Leader

फ्लाइट लेफ्टिनेंट Flight Lieutenant

फ्लाइंग ऑफिसर Flying Officer

IAF RANKS

इंडियन एयर फ़ोर्स में कैरियर कैसे बनाएं | HOW TO JOIN INDIAN AIR FORCE ? |

IAF RANKS तो जान लीं लेकिन सशस्त्र बल या सेना में जाने के इच्छुक युवाओं को इस बात का खास ख्याल रखना चाहिए की ये महज़ एक नौकरी नहीं है, ये आसमान में और ज़मीन में वतन की हिफाज़त की ज़िम्मेदारी लेने का वो जज़्बा है जो किसी भी हाल में हार न मानने वालो के लिए है, क्यूंकि वर्दी ख़रीदी नही, कमाई जाती है | उसके क़ाबिल बनना होता है |

सवाल है how to join INDIAN AIR FORCE ? फ्रेंड्स IAF में भर्तियाँ फ्लाइंग, टेक्नीकल (तकनीकि ) और ग्राउंड ड्यूटी के लिए होती है | INDIAN AIR FORCE मे कमीशंड ऑफिसर्स, नॉन कमीशंड ऑफिसर्स से लेकर मल्टी टास्किंग स्टाफ भी होता है | Maths & Physics विषय के छात्र NDA, CDS जैसे एग्जाम से अपना स्थान बना सकते हैं | UES एग्जाम केवल इंजीनियरिंग छात्रो के लिए होता है | एयर विंग एनसीसी ‘सी’ सर्टिफिकेट वाले स्पेशल एंट्री भी ले सकते हैं | कुछ ऐसे पद भी हैं जिनके लिए 12वी उत्तीर्ण छात्र भी आवेदन सकते हैं |

छात्र चाहे TECHNICAL हो या NON-TECHNICAL उसका शारीरिक,मानसिक, मनोवैज्ञानिक और मेडिकल रूप से फिट होना ज़रूरी है | एक बार छात्र पद का विकल्प चुन ले उसके बाद उसके किसी अनुभवी या जानकर व्यक्ति के मार्गदर्शन में कड़ी मेहनत कर तैयारी करना चाहिए |

उसे नियमित रोज़गार समाचार पत्र ( EMPLOYMENT NEWS ) में भर्ती की योग्यता के सम्बन्ध में विस्तार से अध्ययन करना चाहिए | निश्चित ही उसके सपनों की उड़ान ज़रूर हकीक़त बनेगी | हम सब को भी हर सैनिक को सम्मान देना चाहिए | देश के लिए न्योछावर हो जाने का जज़्बा रखने वालों के लिए इतना कर्तव्य तो हमारा भी है |

जय हिन्द

जय हिन्द की सेना

IMROZ FARHAD

motivational video about INDIAN AIR FORCE must watch – https://youtu.be/JSbOiExdx0U

sapno ko hasil karne ka mantra – http://neeroz.in/law-of-attraction/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *