HINDI DIWAS | हिन्दी दिवस पर 1 कविता

HINDI DIWAS

हिन्दी दिवस पर आज एक छोटी सी कविता नीरोज़ के पाठकों को समर्पित। एस ई ओ और कुछ अन्य तकनीकि कारणों से हमें प्रायः हिन्दी ब्लॉग में भी रोमन स्क्रिप्ट में लिखना पड़ता है जैसे HINDI DIWAS लेकिन हमारी टीम भीतर से हिन्दी के प्रति न केवल अगाध प्रेम और आदर रखती है बल्कि एक पूरा लेख या रचना स्तरीय हिन्दी में लिखने में सक्षम है। हमें पूरा विश्वास है पाठकों की बढ़ती संख्या के साथ हम हिन्दी पाठकों के बीच विश्वस्तरीय जानकारी उपलब्ध कराएंगे।

अभिव्यक्ति

केवल एक दिवस नहीं

हर दिन,

मैने हर दिन हिन्दी को जिया है

महज़ एक भाषा नहीं

यह मेरे लिए

मेरे लिए हर शब्द

के मायने हैं

आरोह के, अवरोह के

विस्मय के, विराम के

सौंदर्य से भला

कौन वंचित रहना चाहेगा

सुंदर विचार

सुंदर शब्द पाकर

सुंदरतम हो उठते हैं

पर मै ?

मेरा तो अबोला

अलिखा भी हिन्दी

तुम ही हो

HINDI DIWAS POEM

इमरोज़ फ़रहाद

यह भी पढ़ें –http://neeroz.in/nirvaat/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *